Uncategorized

गणतंत्र दिवस हिंसा के आरोपी का सामने आया वीडियो, अब 23 फरवरी को लेकर बना रहा है प्लान

लालकिला हिंसा का मास्टरमाइंड और पूर्व गैंगस्टर लक्खा सिधानाचंडीगढ़: पिछले महीने किसानों के ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में हुई हिंसा से जुड़े मामले में नाम आने के बाद, पंजाब से आए एक पूर्व गैंगस्टर का नाम अब बठिंडा में एक रैली के रूप में सामने आया है. दिल्ली पुलिस के अनुसार लखबीर सिंह उर्फ लक्खा सिधाना ने ही (26 जनवरी) गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसक प्रदर्शन करने के लिए प्रदर्शनकारियों को उकसाने का काम किया था. उस दौरान लाल किले सहित दिल्ली में अन्य जगहों पर सैकड़ों प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ गए थे. अब फिर से लक्खा सिधाना ने फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट करके किसानों के आंदोलन के पक्ष में एक जनसभा बुलाई है. ये जनसभा लक्खा सिधाना ने 23 फरवरी को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के पैतृक गांव बठिंडा के मेहराज में बुलाई है. जिसमें उसने लोगों से अपील की है कि बड़ी संख्या में लोग उस

Read More
Uncategorized

दिशा रवि के समर्थन में आए पी चिदंबरम, कहा- भारत बहुत ही कमजोर बुनियाद पर खड़ा है

कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम (फाइल फोटो)नई दिल्ली: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने दिल्ली पुलिस द्वारा ‘टूलकिट' मामले की जांच में 22 वर्षीय जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि की गिरफ्तारी की निंदा की है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा है कि “यदि माउंट कार्मेल कॉलेज की 22 वर्षीया छात्रा और जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि देश के लिए खतरा बन गई है, तो भारत बहुत ही कमजोर बुनियाद पर खड़ा है.” उन्होंने आगे लिखा, “चीनी सैनिकों द्वारा भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की तुलना में किसानों के विरोध का समर्थन करने के लिए लाया गया एक टूक किट अधिक खतरनाक है!” चिदंबरम ने दिशा की गिरफ्तारी का विरोध करते हुए एक और ट्वीट में लिखा, “भारत बेतुका रंगमंच बन रहा है और यह दुखद है कि दिल्ली पुलिस उत्पीड़कों का औजार बन गई है. मैं दिशा रवि की गिरफ्तारी की कड़ी निंदा करता हूं और सभी छात्रों और युवाओं से आग्रह करत

Read More
Uncategorized

दिशा रवि की गिरफ्तारी से सोशल मीडिया पर भड़का आक्रोश…

दिल्ली पुलिस ने ‘टूलकिट' बनाने वालों के संबंध में गूगल, अन्य सोशल मीडिया कंपनियों से जानकारी मांगी  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम (Senior Congress leader P. Chidambaram) ने ट्वीट कर कहा, "माउंट कार्मेल कॉलेज की 21 वर्षीया छात्रा और जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि राष्ट्र के लिए खतरा बन गई है, तो इसका मतलब है कि भारतीय राज्य बहुत ही कमजोर नींव पर खड़ा है." चिदंबरम ने दूसरी ट्वीट में लिखा, “इस देश में किसानों का समर्थन करने के लिए जारी किया गया एक टूलकिट चीनी सैनिकों के घुसपैठ से भी खतरनाक हो गया है. भारत बचकानी और बकवास हरकतें कर रहा है और यह दुखद है कि दिल्ली पुलिस उत्पीड़कों का हथियार बन गई है.” सीपीआई महासचिव सीताराम येचुरी (CPI General Secretary Sitaram Yechury) ने कहा कि मोदी सरकार को लगता है कि सेडिशन के तहत किसानों की एक बेटी को गिरफ्तार करके वह किसानों के आंदोलन को कमजोर कर

Read More
Uncategorized

संयुक्त किसान मोर्चा ने महापंचायत में कहा, भाजपा के दिन पूरे हो चुके

हरियाणा के करनाल में किसानों की महापंचायत आयोजित की गई.नई दिल्ली: संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) ने हरियाणा के कृषि मंत्री के बयान को अमानवीय बताते हुए उसकी निंदा की है और चेतावनी दी है कि लोग उनके इस अहंकार के लिए उचित सबक सिखाएंगे. आज करनाल के इंद्री में किसान महापंचायत में भारत के शहीद जवानों और आंदोलन में शहीद किसानों के बलिदान को सम्मानपूर्वक याद किया गया. एसकेएम ने कहा कि भाजपा - आरएसएस के छद्म राष्ट्रवाद के विपरीत इस देश के किसान वास्तव में देश की संप्रभुता, एकता और प्रतिष्ठा की रक्षा के लिए समर्पित हैं.यह भी पढ़ेंएसकेएम ने इस तथ्य की निंदा की कि सरकार संसद में बिना शर्म के स्वीकार कर रही है कि उनके पास उन किसानों का कोई डेटा नहीं है जिन्होंने चल रहे आंदोलन में अपने प्राणों की आहुति दी थी.  एसकेएम इन शहीद किसानों की जानकारी के बारे में एक ब्लॉग साइट चला रहा है. अगर सरकार को परवाह है त

Read More
Uncategorized

मोदी सरकार ने ट्विटर को दिया कड़ा संदेश, देश के कानूनों का पालन करना ही होगा

प्रतीकात्मक फोटो.नई दिल्ली: केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने किसान आंदोलन (Farmers Movement) के बारे में दुष्प्रचार और भड़काऊ बातें फैला रहे एकाउंट और हैशटैग के खिलाफ त्वरित कार्रवाई करने में ट्विटर (Twitter) के देरी करने पर बुधवार को कड़ी नाराजगी जताई. सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि कंपनी के अपने भले ही कोई नियम हों, लेकिन उसे देश के कानूनों का पालन करना ही चाहिए.यह भी पढ़ेंट्विटर ने 500 से अधिक एकाउंट सस्पेंड किए हैं. हालांकि उसने अभिव्यक्ति की आजादी को अक्षुण्ण रखने की जरूरत का हवाला देते हुए खबरिया निकायों, पत्रकारों, कार्यकर्ताओं एवं नेताओं के एकाउंट पर रोक लगाने से इनकार किया है.आईटी सचिव और ट्विटर के वरिष्ठ अधिकारियों के बीच डिजिटल संवाद के दौरान सरकार ने इस मंच से कहा कि भारत में काम कर रहे कारोबारी निकाय के रूप में उसे कानूनों एवं लोकतांत्रिक संस्थानों का

Read More
Uncategorized

यूपी, उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं करने का फैसला जल्दबाजी में लिया गया: किसान नेता

किसान नेता दर्शन पाल (फाइल फोटो).नई दिल्ली: वरिष्ठ किसान नेता दर्शन पाल (Darshan Pal) ने शनिवार को कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में चक्का जाम नहीं करने का बीकेयू नेता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) का फैसला जल्दबाजी में लिया गया था और बेहतर होता कि वह (टिकैत) अपनी योजना पर पहले संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) के साथ चर्चा किए होते. दिल्ली की तीन सीमाओं (सिंघू, टीकरी और गाज़ीपुर) पर केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ 70 दिन से ज्यादा समय से प्रदर्शनों का नेतृतव कर रहे एसकेएम ने इस हफ्ते के आरंभ में ऐलान किया था कि छह फरवरी को राष्ट्रव्यापी चक्का जाम किया जाएगा.यह भी पढ़ेंभारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता टिकैत ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा था कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में शनिवार को चक्का जाम नहीं किया जाएगा. एक वरिष्ठ किसान नेता ने बताया कि बीकेयू नेता द्वारा अचानक लिए गए फैसले से

Read More
Uncategorized

सरकार का आंदोलनकारी किसानों के प्रति व्यवहार मानवता पर कलंक : सीताराम येचुरी

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के नेता सीताराम येचुरी (फाइल फोटो).नई दिल्ली: भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) के नेता सीताराम येचुरी (Sitaram Yechury) ने किसान आंदोलन (Farmers Movement) पर मोदी सरकार (Modi Government) के रुख को लेकर बुधवार को कहा कि ''दिल्ली पुलिस (Delhi Police) पानी, राशन, बाकी सप्लाई प्रोटेस्ट साइट पर बंद कर चुकी है और घेराबंदी भी कर रही है जैसे कि जंग हो रही हो. टॉयलेट की फ़ैसिलिटी नहीं है. यह अमानवीयता है, मानवता के ऊपर कलंक है यह. कई लोग शहीद भी हुए आंदोलन में. सरकार को बात मान लेनी चाहिए.''यह भी पढ़ेंयेचुरी ने NDTV से बातचीत में कहा कि ''26 जनवरी को जो कुछ हुआ, कौन थे वो लोग जो घुसे. वे रूट से कैसे भटके? ये सब गंभीर सवाल हैं. उस जगह तक पहुंचना मुश्किल है, वो गेट कैसे खुले? जिसने ये किया उसके संबंध बीजेपी के साथ हैं, ऐसे भी आरोप लगे हैं. किसान आंदोलन स

Read More
Uncategorized

लोकतंत्र का मजाक बनाए जाने के बाद किसान आंदोलन के लिए राजनीतिक समर्थन लिया: राकेश टिकैत

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (फाइल फोटो)गाजियाबाद: भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत (Farmer leader Rakesh Tikait) ने रविवार को कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) ने केन्द्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन (Movement against New Agricultural Laws) में राजनीतिक दलों को नहीं घुसने दिया था लेकिन प्रदर्शन स्थलों पर ‘‘लोकतंत्र का मजाक बनाए जाने'' के बाद ही उसने राजनीतिक समर्थन लिया. गाजीपुर में दिल्ली-मेरठ राजमार्ग पर प्रदर्शन स्थल पर सैकड़ों की संख्या में किसानों के जुटने की पृष्ठभूमि में टिकैत ने यह टिप्पणी की. पश्चिमी उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान, उत्तराखंड से बड़ी संख्या में किसान गाजीपुर सीमा पर जुट रहे हैं. गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद किसान आंदोलन अपनी गति खोने लगा था लेकिन टिकैत के भावुक अपील और मुजफ्फरनगर म

Read More
Uncategorized

सरकार के साथ बातचीत का रास्ता बंद करने का कोई सवाल नहीं: संयुक्त किसान मोर्चा

किसान संगठनों और केन्द्र सरकार के बीच अंतिम बातचीत 22 जनवरी को हुई थी. (फाइल फोटो)नई दिल्ली: केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन (Movement against new agricultural laws) का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) ने शनिवार को कहा कि सरकार के साथ बातचीत का रास्ता बंद करने का सवाल ही पैदा नहीं होता. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने शनिवार हुई सर्वदलीय बैठक में कहा था कि किसान यूनियनों के साथ बातचीत के दौरान सरकार द्वारा की गई पेशकश अभी भी बरकरार है और उससे बस सम्पर्क करके बातचीत की जा सकती है. इस बयान के बाद ही शाम को संयुक्त किसान मोर्चा ने बातचीत का रास्ता बंद नहीं करने की बात कही है.यह भी पढ़ेंसंयुक्त किसान मोर्चा ने कहा, आंदोलन को सांप्रदायिक रंग दे रही बीजेपी सरकारआंदोलन में शामिल किसान नेताओं ने महात्मा गांधी की पु

Read More
Uncategorized

किसान 30 जनवरी को सद्भावना दिवस मनाएंगे, दिन भर का उपवास रखेंगे

किसान नेताओं ने देश के लोगों से किसानों के साथ जुड़ने की अपील की. (फाइल फोटो)नई दिल्ली: किसान संगठनों के नेताओं ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र के नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान 30 जनवरी को महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर सद्भावना दिवस मनाएंगे और दिन भर का उपवास रखेंगे. किसान नेताओं ने दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि सुबह नौ बजे से शाम पांच बजे तक उपवास रखा जाएगा. उन्होंने देश के लोगों से किसानों के साथ जुड़ने की अपील की. किसान नेताओं ने केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा पर भी निशाना साधा और आरोप लगाया कि कृषि कानूनों के खिलाफ "शांतिपूर्ण" आंदोलन को "बर्बाद" करने का प्रयास किया जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘इस किसान आंदोलन को नष्ट करने की सत्ताधारी भाजपा की साजिश अब सामने आ गयी है.''यह भी पढ़ेंनेता की रोते हुए वीडियो क्लिप वायरल होने के बाद किसानों की ''

Read More